सुषमा शुक्ला,बख्तावरराम नगर, इंदौर

ओ देश मेरे, तेरी शान पर सदके ,

 कोई धन है क्या,

 तेरी धूल से बढ़ के,

 तेरी धूप से रोशन तेरी हवा पर जिंदा,

 तू बाग है मेरा,

मैं हूं तेरा परिंदा,

जय हिंद जय भारत

Leave a Reply

Your email address will not be published.