गीतांजलि खोचे, इंदौर ,

मुझे ना तन चाहिए ना धन चाहिए,
बस अमन से भरा यह वतन चाहिए.

Leave a Reply

Your email address will not be published.