नवनीत जैन .

जिंदगी एक खूबसूरत नगमा है जिसे हम अपने अच्छे विचारों अच्छे भावों,अच्छे कर्मों अच्छे संस्कारों के सुरों से सजाएंगे तो जिंदगी एक मधुर संगीत की महफिल से सज जायेगी जो हमें भी और दूसरो को भी खुशियां ही खुशियां देगी।

————————————————————

आओ जिंदगी संवारना है

 

छोटी सी है जिंदगानी

जिंदगी संवारना है

रोते रोते आए हैं

हँसते हंसाते जाना है

जाने पर सब रोए

कुछ कर्म ऐसे करना है

याद आएं हम जमाने को

कुछ पहचान ऐसी बनाना है

प्रेम के रंग  बिखेरना है

विश्वास सबका जीतना है

किसी की राह में कांटे नही

फूल बिछाना है,

अपने  खातिर तो सब जीते हैं

औरों की खातिर भी जीना है,

अपने लिए आंसू तो सब पीते है,

औरों के आसुओं को पीना है

रिश्तों को सुंदर बनाना है

खुश रहना है और खुशियां बांटना है

कभी नही भूले दुनिया

ऐसा इतिहास रचना है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.