महिमा वर्मा( बोस्टन से),

सेलम जिस चीज के लिए प्रसिद्ध या बल्कि कहें बदनाम रहा है वे हैं सन 1692 से शुरू हुए ‘विचक्राफ्ट ट्रायल्स’ यानी कि जादू-टोना से जुड़े मुकदमे जिनमें 19 लोगों को जादू-टोने के झूठे आरोपों पर फांसी पर चढ़ा दिया गया था|ये विचेस या ऐसी दुष्ट आत्मायेँ ही शहर का प्रतीक चिन्ह बन गई हैं|शहर में जगह जगह ऐसी दुष्ट आत्माओं की प्रतिमा बनी दिखती हैं,दूकानों की,सज्जा होटल्स के नाम यहाँ तक कि पुलिस कार का लोगो भी विच ही है|

सेलम, बोस्टन के पास स्थित एक छोटा सा समुद्र के किनारे बसा हुआ शहर है|यह  पूरा क्षेत्र जो अटलांटिक महासागर की कोस्टल लाइन पर बसा हुआ है न्यू इंग्लैंड एरिया में आता है|छोटे छोटे से खूबसूरत शहर हैं और सबके नाम इंग्लैंड के शहरों के नाम पर हैं जैसे मैंचेस्टर,लिन,रॉकपोर्ट इत्यादि|सेलम भी इन्हीं खूबसूरत शहरों में से एक है|पूरा न्यू इंग्लैंड एरिया प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर है|सेलम का ऐतिहासिक महत्व भी है|यहाँ इंग्लिश सेटलर्स का बसना 1626 से आरंभ हो गया था|आरंभिक अमेरिकन इतिहास में यह एक महत्वपूर्ण बन्दरगाह था जहां से वस्तुओं और गुलामों की आवक जावक होती थी|सेलम जिस चीज के लिए प्रसिद्ध या बल्कि कहें बदनाम रहा है वे हैं सन 1692 से शुरू हुए ‘विचक्राफ्ट ट्रायल्स’ यानी कि जादू-टोना से जुड़े मुकदमे जिनमें 19 लोगों को जादू-टोने के झूठे आरोपों पर फांसी पर चढ़ा दिया गया था|ये विचेस या ऐसी दुष्ट आत्मायेँ ही शहर का प्रतीक चिन्ह बन गई हैं|शहर में जगह जगह ऐसी दुष्ट आत्माओं की प्रतिमा बनी दिखती हैं,दूकानों की,सज्जा होटल्स के नाम यहाँ तक कि पुलिस कार का लोगो भी विच ही है

|इन विच ट्रायल्स पर आधारित आर्थर मिलर ने अपना नाटक ‘The Crucible’ भी लिखा है|पूरा शहर जैसे प्राचीन काल में लगे विच ट्रायल्स से लगे बदनामी के दागों को धोने के लिए ‘विच’को ही अपना शुभंकर बना बैठा है|सेलम ने अपने हेरिटेज को सुरक्षित रखने के लिए बहुत काम किया है|हम सबसे पहले ‘विच हाउस’गए|यह सेलम के सबसे पुराने घरों में से एक है|उस जमाने में कॉलोनिस्ट कैसे रहते थे इसका यह एक उदाहरण है,फर्नीचर भी उसी जमाने का है|यह जब ‘विचक्राफ्ट ट्रायल्स’चल रहे थे उस समय के एक जज जोनाथन कॉरविन का घर है|

सेलम में पैदल ही सारी जगहों पर घूमा जा सकता है घूमते घूमते हमें एक बहुत ही एतिहासिक बिल्डिंग नज़र आई वह था ‘पीबडी एसेक्स म्यूसियम’|चूंकि सेलम एक बहुत ही महत्वपूर्ण बन्दरगाह हुआ करता था तो यह म्यूसियम उस समय के समुद्री व्यापार से संबन्धित वस्तुओं को प्रदर्शित करने से आरंभ हुआ और आज कला के क्षेत्र में बहुत बड़ा नाम है और अमेरिका का आंठवा सबसे ज्यादा देखा जाने वाला म्यूसियम है|

पीबडी एसेक्स म्यूसियम’

 

हमारी सेलम ट्रिप की हाइलाइट थी ‘विच डंजन म्यूसियम’|यह म्यूसियम उस समय होने वाले विच ट्रायल्स,जिनमें झूठे इल्जाम लगाकर कि इन लोगों पर बुरी आत्माओं का साया है इसलिए दूसरों का बुरा हो रहा है निर्दोष लोगों को सजा दी जाती है, दर्शाता है|यह सब एक बहुत ही सुंदर हाल में जहां लकड़ी की गोल बेंचेस लगी हुई हैं और जजेस के आदमकद पुतले जो बिलकुल ही उस समय के कोर्ट का आभास देते हैं|उस कोर्टरूम को पात्र अपने अभिनय द्वारा एकदम जीवंत बना देते हैं और हमारी आँखों के सामने इतिहास का एक पन्ना खुल जाता है|कोर्टरूम के नीचे तलघर में उस समय बंदियों को किस स्थिति में रखा जाता था यह दिखाया गया|चूंकि वहाँ प्राकृतिक प्रकाश की कोई व्यवस्था नहीं थी तो फोटो लेना संभव नहीं हुआ|पर एक बात स्पष्ट हो गई अन्याय,दमन जैसी चीजें  देश,काल,वर्ण,लिंग हर चीज से परे होते हैं जब भी एक पक्ष बहुत कमजोर या दबा हुआ होता है ताकतवर उसका शोषण करता है|पर सेलम वासियों ने सदियों पूर्व हुए अन्याय को दुनिया के सामने लाया और पूरे शहर को उन बुरी स्मृतियों की कैद से बाहर निकालने के लिए उसी को शहर का शुभंकर बना दिया|

सेलम की विशेषता इसकी सुंदरता को अलग तरह से प्रस्तुत करने में निहित है|कुरूपता,भयावहता या भिन्नता को भी शहरवासी किस तरह से  एंजॉय करते हैं यह काबिले तारीफ है|एक तरफ प्राकृतिक सुंदरता,इतिहास और इतिहास की भयावहता को भुला कर उससे ऊपर उठकर उसको सेलिब्रेट करने का सेलम वासियों का जज्बा पूरे शहर में नज़र आता है और शायद यही उसे एक विशिष्ट शहर बनाता है|

नीले पेड़…एक कल्पना

Leave a Reply

Your email address will not be published.