प्रशांत रायचौधरी,

लाभ मंडपम में हुए कार्यक्रम में  हर गाने पर बजीं खूब तालियां

इंदौर।मंगेशकर घराने की तीसरी पीढ़ी की सिंगर राधा मंगेशकर को शुक्रवार की शाम इंदौरवासियों ने सुकून के साथ सुना। अभय प्रशाल के खूबसूरत लाभ मंडपम में आयोजित द स्वीट मेलोडियस इवनिंग कार्यक्रम में राधा के अलावा पुणे के विनोद सुर्वे व इंदौर के राजेंद्र गलगले ने श्रोताओं की खूब वाहवाही लूटी। गलगले ने जैसे ही ऐ मेरी जोहरा जबीं तुझे मालूम नहीं,तू अभी तक है हंसी..  गाया तो लोग  लगातार तालियांं बजाते रहे, नाचते रहे,सीटियां बजाते रहे। गलगले ने उसके बाद आयो कहां से घनश्याम.. बिल्कुल अलग मूड में गाया  श्रोताओं ने उसे भी सराहा। कार्यक्रम में जब राधा..राधा का नाम ऑडियंस लेने लगी तो  राधा मंगेशकर ने बहुत ही अच्छी बात कही कि सिर्फ मेरा नाम लेकर  मेरे गाने की डिमांड मत कीजिए सभी सिंगरों ने बहुत मेहनत की है, वे भी बहुत अच्छा गाते हैं उनको भी गाने दीजिए।

राजेंद्र गलगले

अभय प्रशाल स्पोर्ट्स क्लब,अनाकार्स म्युजिक एवं संगीत सरोवर द्वारा अभिरुचि संस्था  के सहयोग से आयोजित इस कार्यक्रम की चर्चा पहले  से ही शहर में  होेने लगी थी। खचाखच भरे हॉल में सफलता पर मुहर भी लग गई। तालियों की गड़गड़ाहट के बीच जब राधा मंच पर आई तो पिया तोसे नैना लागे रे... व ये मेरा दिला प्यार का दीवाना.. गाकर माहौल को रंगीन बना दिया। फिल्म लेकिन के गीत यारा सिलीसिली बिरहा की रात का जलना.. व अब तो है तुमसे हर खुशी अपनी.. में तो जैसे  लता मंगेशकर ही स्टेज पर आ गईं ऐसा लगा। मूड को बदलते हुए उन्होंने  विनोद सुर्वे के साथ  कितना प्यारा वादा है इन मतवाली आंखों का, छुप गए तारे नजारे ओय क्या बात हो गई..भी गाए । वो जब याद आए,बहुत याद आए.. जैसे सीरियस गाने को  भी दोनों ने शिद्दत से निभाया।

विनोद सुर्वे

राधा ने राजेंद्र गलगले  के साथ बेखुदी में सनम,उठ गए जो कदम.. व  इंदौर के राजेंद्र केकरे के साथ फूल तुम्हे भेजा है खत में.. गाने में  जुगलबंदी की। मोहम्मद रफी को निभाने वाले पुणे के विनोद सुर्वे को भी दर्शकों की खूब दाद मिली। विनोद ने तुम जो मिल गए हो, गुलाबी आंखें जो तेरी देखी व मधुबन में राधिका नाचे रे.. गाकर लोगों को ताल देने पर मजबूर कर दिया। पिंटू कसरा के सिम्फोनी बैंड ने बढ़िया संगीत संयोजन किया। अन्य गायकों में इंदौर के  आशुतोष करेल,कुलदीप सोनी, दीपाली मोहरिल  को भी पसंद किया गया। इंदौर की स्वप्निला वर्मा का यह पहला स्टेज प्रोग्राम था। उन्होंने आंखों से जो उतरी है दिल में गाया.. अच्छा गाया। उन्हें स्टेज पर लगातार गाते रहना चाहिए। संचालन मोना ठाकुर ने किया।

आयोजन से जुड़े सचिन वाघ ने बताया कि वे जल्दी ही जाल सभागृह में संगीत का एक बड़ा आयोजन करने वाले हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.