– डॉ. प्रतिभा सुमित जैन

शिक्षा – डी.एच.एम .एस. (मुंबई) होम्योपैथ डॉक्टर ।

प्रोफेशन – होम्योपैथ डॉ,साहित्यकार एवं अष्टमंगल ध्यान साधना मोटीवेशनल प्रशिक्षक ।

रचनात्मक गतिविधियां

1) ‘मन की थाह’  नाम से रुचिकर विषयों पर पॉडकास्ट  ।

2) विभिन्न भासी एवं आभासी मंचों पर काव्य प्रस्तुति ।

3)   विभिन्न साहित्यिक कार्यक्रमों में संचालन की भूमिका ।

मोबाइल –  9406635136

ई-मेल  –  pratibhasjain@gmail.com

   कॉलम:-मनका मेरे मन का

 ‘मनका’ यानी  मोती ।मन  का मनका – यानी मेरे भावों के मोती। मेरे विचार ,मेरे हर वह भाव जो किसी चीज़ या प्रसंग को देखकर, मन को विचलित करते हैं -सकारात्मक या नकारात्मक,उन्हें अपनी सरल भाषा में प्रिय अक्षरजननी द्वारा पन्नों पर सहेज  लेती हूँ। न जाने कितने ही सतरंगी भाव उमड़ते हैं, छोटे से मस्तिष्क में और फिर  बादल बन बरसते हैं ।कुछ बह जाते हैं, यूँ ही ,और कुछ मेरे मन की थाह के सीपों में  प्रवेश कर, मोती बन जाते हैं ।इसमें भगवान, सर्वोच्च शक्ति  से संबंधित ,स्वयं से संबंधित,रिश्तों,मानव,प्रकृति, पशुओं,आदि से संबंधित विचारधाराएँ  होंगी। हमारे विश्वासों और त्योहारों के बारे में बातें होंगी। आपकी  जौहरी नज़रों से इन मोतियों पर आपकी प्रतिक्रियाएँ इन्हें नायाब बना देंगे।

 मिलते है हर पखवाड़ा यहीं पर,आपके इन्तज़ार में प्रतिभा जैन ।

5 Comments

  • Anita Jayanti Singhvi, April 2, 2022 @ 9:33 am Reply

    Bahot Bahot sunder tarike se apni dil ki baat kahi hai .

  • रश्मि लहर, April 2, 2022 @ 10:48 am Reply

    बहुत बहुत स्वागत है जी

  • Chitra, April 2, 2022 @ 11:37 am Reply

    Bahut bahut badhaiyan pratibha

  • हर्षवर्धन जैन, April 6, 2022 @ 2:47 am Reply

    “मनका मेरे मन का “शायद हर किसी के मन का होगा यह मनका, अभिव्यक्ति आपकी है ।मन की गहराइयों मै गोते लगाने का अवसर।

  • Arvind Nagar, May 3, 2022 @ 3:30 am Reply

    Eagerly awaiting

Leave a Reply

Your email address will not be published.